Religion

मकर संक्रांति 2019:ऐसा शुभ योग पूरे 718 साल बाद । होगी धन की वर्षा मकर संक्रांति पर । जानिये कैसे?

मकर संक्रांति 2019:ऐसा शुभ योग पूरे 718 साल बाद । होगी धन की वर्षा मकर संक्रांति पर । जानिये कैसे?

Makar saktranti

मकर संक्रांति 2019 का अति उत्तम योग बन रहा है 718 साल बाद। बनेंगे आपके हर बिगड़े काम

मकर संक्रांति के आगमन का मतलब है, हिन्दुओं में सुबह कार्यों का आगाज़, और खरमास की समाप्ति। इस दिन से आप अपने घर में शादी-ब्याह, मुंडन और नामकरण जैसे शुभ कार्य शुरू कर सकते हैं। मकर संक्रांति के दिन भगवान सूर्य अपनी चाल बदलते हैं और धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते हैं । ऐसा शुभ योग पूरे ७१८ साल बाद आ रहा जब सूर्य मकर राशि में १४ जनवरी की शाम ७ बजकर ५० मिनट प्रवेश कर रहा है और १५ जनवरी तक रहेगा। शास्त्रों के अनुसार मकर संक्रांति दिन में मनाई जाती है इसलिए मकर संक्रांति २०१९ की १५ जनवरी को मनाई जायेगी|

मकर संक्रांति २०१९ मुहूर्त पुण्यकाल

Makar-Sankranti-201914 जनवरी को रात्रि ७ बज कर ५० मिनट पर सूर्य राशि बदलेगा यानि की मकर संक्रांति का मुहूर्त ६ घंटे पहले और ६ घंटे बाद तक रहता है। यह मकर संक्रांति अद्भुत होगी ऐसा हिन्दुओं में माना गया है क्यूंकि ऐसा शुभ योग पूरे ७१८ साल बाद आ रहा है। इस दिन स्नान की ख़ास मान्यता है जो आप १ बजकर ५० मिनट अर्ध कुम्भ का शाही स्नान कर सकते हैं और खुशियों से झोली भर सकते हैं। आप १५ जनवरी को भी सूर्योदय के समय के अनुसार स्नान दान कर सकते हैं।

 

क्या करें सुख-समृद्धि पाने के लिए मकर संक्रांति पर?

२०१९ का मकर संक्रांति का पर्व वरदान बनके बरसाने वाला है। आइये ऐसा योग जो ७१८ साल बाद आ रहा है, इसका भरपूर फायदा उठायें और अपने बिगड़े काम संवारें

Makar-Sankranti-2019

  • इस दिन नदियों का पानी अमृत में बदल जाता है।आप स्नान दान दें।आपका दिया हुआ दान, लक्ष्मी बनकर बरस जाता है।
  • मकर संक्रांति पर सुबह जल्दी उठें और अगर आप पवित्र नदियों में स्नान करने नहीं जा सकते तो घर पर ही स्नान कर सभी पवित्र तीर्थों और नदियों के नामों का जाप करें। इससे घर पर तीर्थ स्नान का पुण्य मिल सकता है।
  • गंगा स्नान और गंगा तट पर दान का विशेष महत्त्व है
  • तांबे के लोटे में लाल फूल और चावल डालकर सूर्य को जल चढ़ाएं और “ऊँ सूर्याय नम:” मंत्र का जाप 108 बार करें
  • स्नान के बाद को तुलसी को जल जरूर चढ़ाएं
  • गुड़ और काले तिल का दान अवश्य करें और अपने इष्ट देव को गुड़-तिल के लड्डू का भोग लगाएं
  • गुड़ और कच्ची दाल पानी में प्रवाहित करें| कुंडली के दोष दूर करने में मदद मिलेगी
  • शिवलिंग पर काले तिल चढ़ाकर जल अर्पित करते हुए “ऊँ सांब सदा शिवाय नम:” मंत्र का जाप भी करें

मकर संक्रांति २०१९ पे क्या दान करें जो आपको सुख और समृद्धि दे?

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार मकर संक्रांति २०१९ सोमवार को पड रही है इसीलिए ध्वांक्षी संक्रांति के नाम से भी जानी जाती है और इस दिन दान का खास महत्व है।ऐसी मान्यता है की ध्वांक्षी संक्रांति के दिन किया गया दान लोक-परलोक दोनों में ही सुख और समृद्धि प्रदान करता है। मकर संक्रांति के दिन विशेषतर सूर्य देव की आराधना की जाती है और माना जाता है की पापों का नाश होता है। आप गर्म कंबल, ऊनी वस्त्र, जूते, भूमि, स्वर्ण, लकड़ी, तिल, उड़द की दाल, चावल, पापड़, घी, गुड़, नमक, और अन्न का दान सर्वोत्तम माना गया है| मकर संक्रांति के पर्व पर धार्मिक पुस्तक जैसे की रामायण, गीता का दान भी सबसे बड़ा पुण्य दान माना गया है| मकर संक्रांति के दिन गरीब लोगों को गुड़ और गर्म कपड़ों का दान जरूर करना चाहिए। कुंडली के दोष, सर्प दोष,राहु केतु दोष को दूर करता है अगर आप आस्था पूर्वक दान करते हैं

जानें राशियों पे मकर संक्रांति का असर

सूर्य जब मकर, कुंभ, मीन, मेष, वृष और मिथुन राशि में रहता है, तब ये ग्रह उत्तरायण में होते है। जब सूर्य शेष राशियों कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक और धनु राशि में रहता है, तब दक्षिणायन होता है। इसलिए धन लाभ,कार्यसिद्धि लाभ,पुण्य लाभ,सम्मान व प्रतिष्ठा,सफ़लता, कार्यसिद्धि इन राशियों को होगा – मेष,मिथुन, कन्या,तुला,मीन,कर्क और धनु। हानि, कष्ट और पीड़ा,भय व व्याधि की आशंका, विवाद जैसे योग इन राशियों के बन रहे हैं- वृष, वृश्चिक,मकर, कुंभ राशि।

मकर संक्रांति पर्व की क्यों इतनी मान्यता? है
Makar-Sankranti-2019हिन्दू शास्त्रों में मान्यता है की मकर संक्रांति का पर्व मनाने से पितृ प्रसन्न होते हैं। इसी दिन गंगा जी भागीरथ के पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होते हुए सागर में जा उनसे मिली थीं। भीष्म पितामह ने मकर संक्रांति का शुभ दिन चुना था अपना देह त्यागने के लिए।

सं २०१९ का मकर संक्रांति बहुत ही ख़ास है हम सबके लिए क्यूंकि ७१८ साल बाद ऐसा संजोग बन रहा है ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक।ऐसा माना जा रहा है की यह बहुत ही शुभ होगा सबके लिए, सबके बिगड़े काम बनेंगे और किस्मत बदलने वाला होगा। आइये हम सब मिलके इस पर्व को हर्ष उल्ल्हास के साथ मनाएं और सबके लिए अच्छी कामना करें।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close