Jammu Kashmir

भारत में है पहला तैरने वाला पोस्ट ऑफिस, तसवीरें देख कर आप भी चकरा जाएंगे

भारतीय डाक प्रणाली आज दुनिया की सबसे उत्तम एवं विश्वसनीय डाक प्रणाली मानी जाती है. भारत में डाक सेवा आज से लगभग 500 साल पहले शुरू कर दी गयी थी. हालाँकि अब पोस्ट ऑफिस का ट्रेंड इंटरनेट और सोशल साइट्स ने काफी कम कर दिया है. लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि दुनिया की सबसे बड़ी डाक सेवा हमारे भारत देश में ही है. यहाँ लगभग 1.5 लाख से भी अधिक डाक घर हैं. गौरतलब है कि हर डाकघर सात हजार से भी ज्यादा लोगों को अपनी सेवाएं प्रदान करता है. लेकिन आज हम आपको जिस पोस्ट ऑफिस के बारे में बताने जा रहे हैं, उसके बारे में बहुत कम भारतीय जानते हैं. दरअसल, इस पोस्ट ऑफिस को तैरने वाला पोस्ट ऑफिस कहा जाता है. यहाँ हर साल 900 करोड़ चिठ्ठियों का आदान-प्रदान होता है.

कहाँ है ये तैरने वाला पोस्ट ऑफिस?

आपको बता दें कि तैरने वाला यह पोस्ट ऑफिस जम्मू कश्मीर में मौजूद है. जहाँ शाम होते ही सडकें सुनसान हो जाती हैं, वहीँ जम्मू कश्मीर की डल झील के पास मौजूद यह पोस्ट ऑफिस रात को भी खुला रहता है.  करीब छह सालों पहले यह डाक घर बेहद बुरी हालत में था. पुराणी इमारत होने के चलते इसका रंग काफी फीका पड़ चुका था और जगह जगह जाले लगे थे. श्रीनगर के इस 24 घंटे खुले रहने वाले डाकघर की काया पलटने वाले यहां के पोस्टमास्टर जनरल जॉन सैमूएल थे. आज यह डाकघर एक पर्यटक स्थल के रूप में जाना जाता है और लोग दूर दूर से इसे देखने आते हैं.

दुसरे डाक घरों से है अलग 

Floating post office Jammu Kashmir

इस पोस्ट ऑफिस में बाकी सभी पोस्ट ऑफिस की तरह ही काम होता है लेकिन, कश्मीर की डल झील में मौजूद इस पोस्ट ऑफिस में काफी कुछ ख़ास भी है. इस डाकखाने की मुहर पर तारीख और पते के साथ नाविक की तस्वीर बनी होती है.  इस पोस्ट ऑफिस का नाम ‘फ्लोटिंग पोस्ट ऑफिस‘ (Floating Post Office) साल 2011 में रखा गया था.  चीफ पोस्ट मास्टर जॉन सैम्युअल ने इसका नाम “फ्लोटिंग पोस्ट ऑफिस” रखवाया. हाउसबोट पर बने इस डाकखाने में दो कमरे भी मौजूद हैं. जिनमे से एक कमरा पोस्ट ऑफिस के तौर पर काम करता है और दूसरा कमरा संग्रहालय के तौर पर.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close