Astrology

इन 4 तरह के लोगों पर जिंदगी में कभी मत करना भरोसा

आचार्य चाणक्य - 4 तरह के लोगों पर जिंदगी में कभी मत करना भरोसा

आचार्य चाणक्य को बहुत से लोग कौटल्य के नाम से भी जानते हैं. चाणक्य ने अपने जीवन काल में लोगों को सही मार्ग पर चलने की सीख दी. इन्होने हमेशा मनुष्य को धर्मनीति, राजनीति, कूटनीति और इंसानियत का पाठ पढ़ाया. चाणक्य एक ऐसे महान व्यक्ति थे, जिन्होंने अपनी बुद्धि और विद्वत्ता से भारतीय इतिहास और यहाँ के रहने वालों की सोच को बदल कर रख दिया. आचार्य चाणक्य ने दुनिया को सही रास्ते पर चलने के लिए कईं उपदेश दिए, जिनका वर्णन आज भी इतिहास के पन्नो में मिलता है. चाणक्य के अनुसार दुनिया में भांति भांति के लोग रहते हैं, इनमें से ऐसे कईं लोग हैं, जिन पर हमे भूल से भी भरोसा नहीं करना चाहिए वरना अंत में हमे निराशा के इलावा कुछ हाथ नही लगेगा.

दरअसल, आचार्य चाणक्य ने एक नीति में बताया है कि हमें किस किस पर भरोसा नहीं करना चाहिए ताकि हमारा जीवन सुखद बना रहे. चाणक्य के अनुसार आइसे लोगों पर यदि विश्वास किया जाता है तो जिंदगी में कभी खुशियाँ नहीं टिकती और हमेशा परेशानियों और बाधायों से मनुष्य घिरा रहता है. चलिए जानते हैं आखिर वह कौन से 4 लोग हैं, जिन पर विश्वास करना चाणक्य नीति के खिलाफ है-

दुखी व्यक्ति पर ना करें विश्वास

दुखी-व्यक्तिइस दुनिया में लगभग हर कोई किसी ना किसी तरह से दुखी है. लेकिन चाणक्य के अनुसार असली इंसान वही है, जो दुखों में भी हँसाना और जीना सीख लेता है. ऐसे में जो लोग दुखी रहते हैं, उन पर भरोसा करना व्यर्थ है. ऐसे व्यक्ति जीवन में हार चुके होते हैं और इन पर भरोसा करके हमे अकेलापन और उदासी के इलावा कुछ हाथ नहीं लगेगा. आचार्य चाणक्य के अनुसार दुखी लोगों के पास भले ही खुश रहने की लाख वजहें क्यों ना हो, लेकिन वह कभी भी ना तो खुद सकारात्मक रह स्स्कते हैं, और ना ही दूसरों को रहने दे सकते हैं. इतना ही नहीं बल्कि ऐसे लोग खुद के दुखी होने पर दूसरों को वजह मानते हैं और ईर्षा भावना से उनको दुःख पहुँचाने की सोचते रहते हैं. इसलिए भूल से भी दुखी व्यक्ति पर विश्वास ना करें.

 

 

चरित्रहीन नारी पर ना करें भरोसा

चरित्रहीन-नारीदुनिया में अधिकतर मर्द नारी के पुजारी होते है. ऐसे में यदि वह किसी नारी को दुखी देख लेते हैं, तो उसका सहारा बनने के लिए तैयार खड़े रहते हैं. वहीँ यदि कोई महिला उदासी की स्तिथि में हो तो बहुत से पुरुष उसकी ओर आकर्षित होने लगते हैं. लेकिन वह कभी यह नहीं सोचते कि क्या वह महिला वाके में निर्दोष है या फिर बस सहानुभूति के लिए दुखी होने का दिखावा कर रही है. क्यूंकि बहुत सी स्त्रीयां अपने असली चरित्र को छिपा कर अबला होने का ढोंग करती हैं ताकि वह दूसरों का भरोसा जीत कर उनका फायदा उठा सकें. ऐसी स्त्रीयों को चाणक्य नीति में चरित्रहीन स्त्रीयां कहा गया है जो कभी किसी के साथ लॉयल नहीं रह सकती. तो इन स्त्रीयों की जो भी मदद करता है या फिर उन पर भरोसा करता है, उसके पास अंत में निराशा के सिवा कुछ नहीं बचता.

 

मुर्ख लोगों पर ना करें भरोसा

मुर्ख-लोगयदि आप मुर्ख लोगों को सही दिशा दिखाना चाहते हैं तो यहाँ आप बिलकुल गलत हैं. क्यूंकि मुर्ख लोगों को चाहे कितना भी ज्ञान बाँट दिया जाए वह अपनी मुर्खता को कभी नहीं त्याग सकते. ऐसे लोग आपकी किसी भी अच्छाई को समझने के काबिल नहीं होते हैं और उन्हें सच्चाई का पाठ पढाना आपके लिए केवल अपने समय की बर्बादी है. ऐसे लोगों पर भरोसा करना अंत में आपको महंगा पड़ेगा और तनाव के सिवा आपके हाथ कुछ नहीं आयेगा. इसलिए भूल से भी मुर्ख लोगों पर भरोसा करके अपनी जिंदगी को व्यर्थ ना जाने दें.

 

 

अधिक प्रशंसा वाले मित्रों से रहे दूर

अधिक-प्रशंसादोस्ती इस जीवन में एक ऐसा रिश्ता है, जो भगवान ऊपर से बना कर नहीं भेजता बल्कि हम खुद अपने दोस्त चुनते हैं. लेकिन बहुत से लोग मतलबी हो सकते हैं और आपके सामने अच्छा होने का दिखावा करके आप ही को नीचा दिखा सकते हैं. आचार्य चाणक्य के अनुसार जो मित्र आपकी बिना मतलब के प्रशंसा करते रहते हैं, वह हकीकत में अपना उल्लू सीधा करने के लिए ही आपके जीवन में आते हैं. वह आपकी पीठ पीछे आपके बारे में सब को बुरा कह सकते हैं. ऐसे मित्रों से जितना दूर रहा जाए, उतना रहे क्यूंकि इन पर भरोसा करना आपके लिए सबसे घातक साबित हो सकता है. यह आपके दुःख में आपका कभी साथ नहीं देंगे उल्टा आपको नीचा दिखाने के नए रास्ते खोजेंगे. इसलिए चाणक्य की इस नीति के अनुसार प्रशंसा करने वाले मित्रों पर हरगिज़ भरोसा ना करें.

दोस्तों, उम्मीद करते हैं आपको चाणक्य की यह नीति जरुर पसंद आई होगी. ऐसी ही रोचक जानकारियां पढने के लिए हमारे साथ ऐसे ही बने रहें..!!

 

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close